(28 January 1865 - 17 November 1928)

लाला लाजपत राय उर्फ पंजाब केसरी का जन्म 28 जनवरी 1865 को हुआ था। जानिए उनके जीवन के बारे में और पढ़ें उनकी जयंती पर कुछ प्रेरक उद्धरण।

लाला लाजपत राय को 'पंजाब केसरी' या 'पंजाब के शेर' के नाम से जाना जाता है। वह एक महान नेता, इतिहासकार, प्रख्यात संपादक, सामाजिक और धार्मिक सुधारक और शक्तिशाली वक्ता थे।

लाला लाजपत राय ने बाल गंगाधर तिलक और बिपिन चंद्र पाल के साथ मिलकर उग्रवादी नेताओं 'लाल-बाल-पाल' की त्रिमूर्ति का गठन किया।

लाला लाजपत राय ने स्वदेशी के लिए सक्रिय रूप से अभियान चलाया और भारत और विदेशों में आत्मनिर्भरता के संदेश का प्रचार किया। उन्होंने 1921 में लाहौर में 'सर्वेंट्स ऑफ द पीपल सोसाइटी' की भी स्थापना की, जिसने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय काम किया।

उन्हें 1920 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। लाला लाजपत राय की मृत्यु 17 नवंबर, 1928 को लाहौर (अब पाकिस्तान में) में साइमन कमीशन के खिलाफ एक प्रदर्शन का नेतृत्व करते हुए हुई थी।