Happy Makar Sankranti

Makar Sankranti Shayari

सोचा किसी अपने से बात करें, अपने किसी खास को याद करें, किया जो फैसला मकर संक्रांति की शुभकामनाएं देने का, दिल ने कहा क्यों ना शुरूआत आपसे करें।

तन में मस्ती मन में उमंग, देकर सबको अपनापन गुड में जैसे मीठापन, होकर साथ हम उड़ायें पतंग, और भर लें आकाश में अपना रंग।

काट ना सके कभी कोई पतंग आपकी, टूटे ना कभी डोर विश्वास की, छू लो आप ज़िन्दगी की सारी कामयाबी, जैसे पतंग छूती है ऊँचाइयाँ आसमान की।

त्यौहार नहीं होता अपना पराया, त्यौहार है वही जिसे सबने मनाया, तो मिला के गुड़ में तिल, पतंग संग उड़ जाने दो दिल।

पग पग सुनहरे फूल खिलें, कभी भी न हो काँटों का सामना, ज़िन्दगी आपकी ख़ुशी से भरी रहे, ये ही है हमारी मनोकामना।

तील हम है और गुल आप, मिठाई हम है और मिठास आप, साल के पहले त्योहार से हो रही आज शुरूआत, आपको हमारी तरफ से हैप्पी संक्रांति।

दिल को धडकन से पहले, दोस्त को दोस्ती से पहले, खुशी को गम से पहले, आपको कुछ दिल पहले, हैप्पी मकर संक्रांति २०१९.

पूर्णिमा का चाँद रंगों की डोली चाँद से उसकी चांदनी बोली खुशियों से भरे आपकी झोली मुबारक हो आप को रंग बिरंगी ‘पतंग वाली मकर संक्रांति।

कागज अपनी किस्मत से उड़ती है, और पतंग अपनी काबिलियत से, इसलिए किस्मत साथ दे या न दे, पर काबिलियत हमेशा साथ देती है, काबिल बनो, कामयाबी पीछे दौड़ेगी।

है प्यारा यह पर्व हमारा, नया दिन और नया उजियारा, मिट जाये सब क्लेश दिलों से, मकर संक्रांति पर यही सन्देश है हमारा।

बाजरे की रोटी, कैरी का आचार, आपकी खुशी, अपनों का प्यार, मुबारक हो आपको, मकर संक्रांति का त्यौहार।